जनजाति क्रान्तिकारियों की चित्र प्रदर्शनी

75 वर्ष के कलाकार अशोक जी ने इस चित्र प्रदर्शनी में कुल 26 क्रांन्तिकारियों के चित्र है जो उस समय की परिस्थिति का दर्शन कराते है।

मानो ! अतीत को जीवंत करते है।

भारत को स्वतंत्रा करने के लिये कई क्रान्तिकारियों ने अपना योगदान दिया है। उसमें जनजाति समाज के क्रान्तिकारियों का योगदान भी बड़ा महत्वपूर्ण था। परन्तु समाज इस बात को जानता नहीं है। समाज के सभी लोगों को जनजाति क्रान्तिकारियों के बलिदान की जानकारी मिले और भविष्य की पीढ़ी को भी ज्ञात हो, इस हेतु से नासिक के निवृत्त अभियन्ता अशोक धर्माधिकारी ने एक अनोखी प्रदर्शनी तैयार कि है। इसमें कलाकार के रूप में अशोक जी ने स्वयं चित्रित किये हुए जनजाति क्रान्तिकारियों के चित्रा है।

75 वर्ष के कलाकार अशोक जी ने इस चित्र प्रदर्शनी में कुल 26 क्रांन्तिकारियों के चित्र है जो उस समय की परिस्थिति का दर्शन कराते है। मानो ! अतीत को जीवंत करते है।

दर्शकों के लिये कई क्रान्तिकारियों के नाम तक नवीन होंगे और उनके सन्दर्भ में जब हम जानकारी प्राप्त करते है तो मन में निश्चित ही आदरभाव जागृत होता है। टंट्या माता, राघोजी भांगरे, राणा पूंजा भील, खाज्या नाईक, शिल्पत राजा, भीमा नाईज जैसे कई नाम है जिन्होंने अपने तीर कमान, तलवार-भाले, गिलोल जैसे सामान्य शस्त्रों से अंग्रेजों को दिन में तारे दिखाये है। कई व्यक्तियों को पकड़ने के लिये अंग्रेजों ने उस समय इनाम घोषित किये थे। कलाकार अशोक धर्माधिकारी को इस बात की सदैव खंत रही की इनके बारे में समाज कुछ जानता ही नहीं। शायद यही चित्रा बनाने के पिछे प्रेरणा रही होगी।

जनजाति क्रान्तिकारियों के जीवन पर आधरित एक पुस्तक प्रकाशन करने का उनका विचार है, जिसके चलते विद्यालयों में यह प्रेरणा प्रवाहित हो।

(उपरोक्त समाचार हमें नासिक से प्रकाशित ‘सकाळ’ दैनिक से प्राप्त हुए है। हम उनके आभारी है।)

….. अपनी माता की स्मृति में ‘लक्ष्मी आर्ट गैलरी’ के नाम से मैंने काम प्रारम्भ किया जिसमें 26 जनजाति क्रान्तिकारियों के चित्रा चित्रित किये है। क्रान्तिकारकों के चित्रा प्राप्त करने में मुझे बहुत परिश्रम करने पडे। कई व्यक्तियों के प्रति थोड़ी बहुत जानकारी मिलती है परन्तु उनका चित्रा मिलता नहीं। इसके कठिन कार्य में कई मित्रों ने मुझे सहयोग किया। भविष्य में एक पुस्तक लिखने का मेरा विचार है।

-अशोक धर्माधिकारी, नासिक……

 

“Newletter”

We Are Social