पुरुषोत्तम मास में जनजातीय दांम्पत्यों को उपहारों देकर किया सन्मानीत

पुरुषोत्तम मास के अवसर पर नासिक के कार्यकर्ताओं ने जनजातीय क्षेत्रों के दाम्पत्यों को निमंत्रित कर सम्मानित किया। नासिक में पधरे जनजातीय दांम्पत्यों का स्वागत कर उन्हें रामकूंड में पवित्रा स्नान, कालाराम मंदिर तथा कपालेश्वर मंदिर का दर्शन और मिष्टान्न भोजन भी कराया। गजानन महाराज संस्थान की वेणू दिदी ने अध्यात्मिक तथा सामाजिक विषयों पर मार्गदर्शन और अंत में उपहारों से उनका सन्मानित किया।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जनकल्याण समिति ने ऐसा अनोखा कार्यक्रम किया। समाज के एक प्रचलित परम्परा है की पुरुषोत्तम मास में दामाद को अपने घर आमंत्रित कर उपहार देकर सन्मानित किया जाता है। इस कार्यक्रम के लिए समिती ने एक प्रयास किया सिध जनजाति लोगों के बीच जाकर अलग अलग पाडों से दाम्पत्यों को नासिक में आमंत्रित जाय। जनकल्याण समिति के पदाधिकारी एवम् कार्यकर्ताओं ने पेठ, सुरगाणा और हरसूल इस तहसिल के 20 पाडों से आठ दिन पूर्व जाकर निमंत्रित किया था। 80 जनजातीय दांम्पत्य अपने खर्चे से नासिक आये थे।
इस समारम्भ में जनजाति महिलाओ को शगून के तौर पर सारी, चूड़ियों के लिए पैसे उपहार में दिए। भीमराव गारे, स्मिता जोशी, शैलजा कुलकर्णी, योगिनी चंद्रात्रो जैसे कई कार्यकर्ताओं ने कार्यक्रम की सफलता के लिए प्रयास किया।

 


 

We Are Social