PROTECTION OF JANJATI’S RIGHTS (हित रक्षा )

      ‘हितरक्षा’ कहते ही अर्थ स्वयं स्पष्ट हो जाता है। वर्षों से जिन पर अन्याय हो रहा है, जिनका शोषण हो रहा है, एसे अपने वनवासी बन्धुओं के हितों की रक्षा। वैसे कल्याण आश्रम की स्थापना से लेकर आज तक हमने ऐसे कई उपक्रम किये, ऐसे कई कार्यक्रम आयोजित किये, जिसके पीछे वनवासी समाज के हितों की रक्षा का ही उद्देश्य रहा।

वनवासी कल्याण आश्रम के स्थापक वनयोगी बालासाहब देशपाण्डेजी पेशे से वकील थे। उन्हें स्वयं भी कोर्ट-कचहरी से लेकर विभिन्न सरकारी कामों में वनवासी बन्धुओं को हितरक्षा के रूप में कई बार सहायता की है। उनके पास यदि कोई वनवासी बन्धु आया, कोर्ट का काम तो है परन्तु दूसरी ओर निर्धनता के कारण लाचार है, तो वे कई बार कम पैसे में उसका काम करते। कभी कभी तो बीना पैसे भी उसका काम करते।

हम अपनी बैठकों में ऐसे विषयों पर चर्चा कर विभिन्न प्रकार के प्रस्ताव पािरत करते है। अपने हितरक्षा विभाग द्वारा वनवासी समाज के पक्ष में समय-समय पर सरकारी कार्यालयों में ज्ञापन देना, सभा-सम्मेलनों के माध्यम से दबाब डालना जैसे कई प्रयास चलते रहते है। कई स्थानों पर रैलियों का आजोजन कर समाज में अन्याय के सामने शक्ति खड़ी करना भी आवश्यक होता है। समाजहित मे नेतृत्व पनपता है, जो अपने अधिकारों की रक्षा हेतु सक्रीय होते हुए भी सामाजिक सद्भावना को हानि न पहुँचे, ऐेसे कार्यक्रमों का आयोजन करता है।

हम अपनी बैठकों में ऐसे विषयों पर चर्चा कर विभिन्न प्रकार के प्रस्ताव पािरत करते है। अपने हितरक्षा विभाग द्वारा वनवासी समाज के पक्ष में समय-समय पर सरकारी कार्यालयों में ज्ञापन देना, सभा-सम्मेलनों के माध्यम से दबाब डालना जैसे कई प्रयास चलते रहते है। कई स्थानों पर रैलियों का आजोजन कर समाज में अन्याय के सामने शक्ति खड़ी करना भी आवश्यक होता है। समाजहित मे नेतृत्व पनपता है, जो अपने अधिकारों की रक्षा हेतु सक्रीय होते हुए भी सामाजिक सद्भावना को हानि न पहुँचे, ऐेसे कार्यक्रमों का आयोजन करता है।

 

 वार्ता

कल्याण आश्रम का प्रतिनिधी मंडल केन्द्रीय ग्रहमंत्री श्री राजनाथसिंह से मिला धर्मकोड के बारे में किये प्रस्ताव पर चर्चा

कल्याण आश्रम का प्रतिनिधी मंडल केन्द्रीय ग्रहमंत्री श्री राजनाथसिंह से मिला धर्मकोड के बारे में किये प्रस्ताव पर चर्चा अखिल भारतीय वनवासी कल्याण आश्रम का एक प्रतिनिधी मंडल 31 अक्टूबर...
Read More

जनजातीय सुरक्षा मंच ने कलेक्टर, एसडीएम व पुलिस में जताई आपत्ति

जनजातीय सुरक्षा मंच ने कलेक्टर, एसडीएम व पुलिस में जताई आपत्ति   जनजातीय सुरक्षा मंच के बैनर तलेजनजातीय समाज के लोगों ने कलेक्टर, एसडीएम सहित जशपुर पुलिस को चर्च में...
Read More

सामुदायिक वनाधिकार के लिये नांदेड जिला में पहल

सामुदायिक वनाधिकार के लिये नांदेड जिला में पहल महाराष्ट्र के नांदेड जिला के 14 गाँवों में सामुदायिक वनाधिकार एवं सामुदायिक वन संसाधन अध्किार हेतु पत्र प्राप्त हुए। इस हेतु सामुदायिक...
Read More

सामुदायिक वनाधिकार, पेसा कानून और ग्राम सभा सशक्तिकरण के लिये कार्यशाला

सामुदायिक वनाधिकार, पेसा कानून और ग्राम सभा सशक्तिकरण के लिये कार्यशाला मण्डला के गौंडी पब्लिक ट्रस्ट भवन में सामुदायिक वनाधिकार, पेसा कानून और ग्राम सभा का सशक्तिकरण पर एक कार्यशाला...
Read More

प्रत्येक जनजाति व्यक्ति को मिलेंगे 7 लाख 86 हजार

प्रत्येक जनजाति व्यक्ति को मिलेंगे 7 लाख 86 हजार आन्ध्र प्रदेश के पोलावरम डॅम के कारण हुए विस्थापितों का विषय कई समय से चर्चा में है। कोक्कुनुर मण्डल के बंजारा...
Read More

We Are Social