PROTECTION OF JANJATI’S RIGHTS (हित रक्षा )

      ‘हितरक्षा’ कहते ही अर्थ स्वयं स्पष्ट हो जाता है। वर्षों से जिन पर अन्याय हो रहा है, जिनका शोषण हो रहा है, एसे अपने वनवासी बन्धुओं के हितों की रक्षा। वैसे कल्याण आश्रम की स्थापना से लेकर आज तक हमने ऐसे कई उपक्रम किये, ऐसे कई कार्यक्रम आयोजित किये, जिसके पीछे वनवासी समाज के हितों की रक्षा का ही उद्देश्य रहा।

वनवासी कल्याण आश्रम के स्थापक वनयोगी बालासाहब देशपाण्डेजी पेशे से वकील थे। उन्हें स्वयं भी कोर्ट-कचहरी से लेकर विभिन्न सरकारी कामों में वनवासी बन्धुओं को हितरक्षा के रूप में कई बार सहायता की है। उनके पास यदि कोई वनवासी बन्धु आया, कोर्ट का काम तो है परन्तु दूसरी ओर निर्धनता के कारण लाचार है, तो वे कई बार कम पैसे में उसका काम करते। कभी कभी तो बीना पैसे भी उसका काम करते।

हम अपनी बैठकों में ऐसे विषयों पर चर्चा कर विभिन्न प्रकार के प्रस्ताव पािरत करते है। अपने हितरक्षा विभाग द्वारा वनवासी समाज के पक्ष में समय-समय पर सरकारी कार्यालयों में ज्ञापन देना, सभा-सम्मेलनों के माध्यम से दबाब डालना जैसे कई प्रयास चलते रहते है। कई स्थानों पर रैलियों का आजोजन कर समाज में अन्याय के सामने शक्ति खड़ी करना भी आवश्यक होता है। समाजहित मे नेतृत्व पनपता है, जो अपने अधिकारों की रक्षा हेतु सक्रीय होते हुए भी सामाजिक सद्भावना को हानि न पहुँचे, ऐेसे कार्यक्रमों का आयोजन करता है।

हम अपनी बैठकों में ऐसे विषयों पर चर्चा कर विभिन्न प्रकार के प्रस्ताव पािरत करते है। अपने हितरक्षा विभाग द्वारा वनवासी समाज के पक्ष में समय-समय पर सरकारी कार्यालयों में ज्ञापन देना, सभा-सम्मेलनों के माध्यम से दबाब डालना जैसे कई प्रयास चलते रहते है। कई स्थानों पर रैलियों का आजोजन कर समाज में अन्याय के सामने शक्ति खड़ी करना भी आवश्यक होता है। समाजहित मे नेतृत्व पनपता है, जो अपने अधिकारों की रक्षा हेतु सक्रीय होते हुए भी सामाजिक सद्भावना को हानि न पहुँचे, ऐेसे कार्यक्रमों का आयोजन करता है।

 

 वार्ता

छत्तीसगढ़ के टाइगर रिजर्व में जनजाति समाज विस्थापित

छत्तीसगढ़ के टाइगर रिजर्व में जनजाति समाज विस्थापित छत्तीसगढ़ राज्य के अचानकमार टाइगर रिजर्व क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले गाँवों में हो रहे जनजाति समाज के विस्थापन एवं पुनर्वास के...
Read More

25 कन्याओं का सामूहिक विवाह सम्पन्न

25 कन्याओं का सामूहिक विवाह सम्पन्न    अखिल भारतीय वनवासी कल्याण आश्रम से सम्बद्ध सेवा समर्पण संस्थान-कानपुर के कार्यकर्ताओें के प्रयासों से अक्षय तृतिया के दिन 7 मई 2019 को...
Read More

पीड़ित परिवारों को सहायता

पीड़ित परिवारों को सहायता आन्ध्र प्रदेश के श्रीपदा जिला के विजय नगर में आए चक्रावात के पश्चात सहायता कार्य के रूप में वनवासी कल्याण आश्रम के कार्यकर्ताओं ने 80 पीड़ित...
Read More

उच्च शिक्षण संस्थाओं में आरक्षण की 200सूत्रीय पुरानी व्यवस्था बहाल की जाए

उच्च शिक्षण संस्थाओं में आरक्षण की 200सूत्रीय पुरानी व्यवस्था बहाल की जाए देश की केन्द्रीय उच्च शिक्षण संस्थाओं ‘विश्व विद्यालयों एवं उनसे सम्बद्ध महाविद्यालयों’ में शैक्षणिक पदों एवं रिक्तियों में...
Read More

वन अधिकार कानून के अंतर्गत दावे वाली वनभूमि के कब्जे हटाने के उच्चतम न्यायलय के निर्णय में सरकार तुरंत विधाई या न्यायिक हस्तक्षेप करे.

24 फरवरी 19 को मध्यप्रदेश के सतना में आयोजित वनवासी कल्याण आश्रम के केन्द्रीय कार्यकारिणी बैठक। मंच पर (बाएं से दाएं) अर्जुनदास खत्री-कोषाध्यक्ष, योगेश बापट-महामंत्री, जगदेव राम उरांव-अध्यक्ष, कृप्रा प्रसाद...
Read More

We Are Social