छात्रावास

यह भी शिक्षा क्षेत्र से ही जुड़ा प्रकल्प है। वैसे कल्याण आश्रम की स्थापना ही एक छात्रावास के द्वारा हुई थी और किसी भी व्यक्ति हम उसी के माध्यम से कल्याण आश्रम का काम दिखा सकते है। आज हम देश में 219 छात्रावासों का संचालन कर रहे है। इसमें 43 छात्रावास बालिका छात्रावास है। कुल 7490 बालक, बालिकाएँ इन छात्रावासों में अध्ययन कर रहे है। आज कई ग्रामीण वनवासी कार्यकर्ता अपना परिचय देते समय – ‘मैं कल्याण आश्रम के छा़त्रावास में पढ़ा हुँ ऐसा कहते है।’ अर्थात यह कार्यकर्ता देनेवाला प्रकल्प है। शिक्षा के साथ संस्कार देने की व्यवस्था है।

विशेष: सुदूर उत्तर – पूर्वांचल के ग्रामीण क्षेत्र के कई बालक अध्ययन हेतु देश के विभिन्न नगरों में चल रहे छात्रावासों में आकर पढ़ाई करते है। उनके के लिये चल रहा यह एक अनोखा प्रकल्प है। इसमें शिक्षा के माध्यम से राष्ट्रीय एकात्मता की भावना को हम दृढ करते है।

previous arrow
next arrow
Slider

छात्रावास वार्ता

वनवासी कल्याण आश्रम के महिला कौशल विकास एवं कन्या छात्रावास का हुआ शिलान्यास

वनवासी कल्याण आश्रम के महिला कौशल विकास एवं कन्या छात्रावास का हुआ शिलान्यास बगीचा क्षेत्र के ग्राम सरबकोम्बो में अखिल भारतीय वनवासी कल्याण आश्रम के द्वारा महिला कौशल विकास सह...
Read More

जन्मदिन पर अपनी खुशी जनजाति बच्चों के साथ बाँटी

जन्मदिन पर अपनी खुशी जनजाति बच्चों के साथ बाँटी पीस ऑफ इण्डिया के चेयरमैन विशाल भारद्वाज ने अपने जन्मदिन निमित्त दादरा नगर हवेली के मुक्ति दिवस पर वनवासी कल्याण आश्रम...
Read More

मध्य प्रदेश के कुक्षी छात्रावास में प्रवेश उत्सव

मध्य प्रदेश के कुक्षी छात्रावास में प्रवेश उत्सव मध्य प्रदेश वनवासी कल्याण परिषद (भोपाल) द्वारा संचालित श्री एकलव्य वनवासी आश्रम कुक्षी में आज 23 जुलाई 2018 को छात्रों का प्रवेश...
Read More

सात्विक भाव के आधर पर चल रहे कार्य को मेरी शुभकामानाएँ – डा. हर्षवर्धन

सात्विक भाव के आधर पर चल रहे कार्य को मेरी शुभकामानाएँ – डा. हर्षवर्धन   १३ मई २०१८ को दिल्ली में वनवासी कल्याण आश्रम का वार्षिक उत्सव सम्पन्न हुआ. रा....
Read More

शहीद जादोनांग छात्रावास का दसवां वर्ष

शहीद जादोनांग छात्रावास का दसवां वर्ष वनवासी कल्याण आश्रम - दिल्ली द्वारा संचालित बालक छात्रावास को पिछले मास में दस वर्ष पूर्ण हुए। इस निमित्त छात्रावास पर बालकों के साथ...
Read More