URBAN ACTIVITIES (नगरीय कार्य)

वनक्षेत्र में आज शिक्षा, चिकित्सा सुविधा, आर्थिक विकास की दिशा में हमें कमियाँ दिखाई पड़ रही है। अगर नगरों में रहनेवाला समाज 100 वर्ष पूर्व ही जागृत एवं सचेत होकर अपने वनवासी बन्धुओं के बारे में सक्रीय हुआ होता तो आज चित्र कुछ और होता। नगरीय समाज की उदासीनता, उपेक्षा एवं वनक्षेत्र तथा जनजाति समाज के बारे में अज्ञानता के कारण आज अराष्ट्रीय, असामाजिक एवं विघटनकारी शक्तियाँ वनक्षेत्र में अपनी जडे़ जमायें हुए है। भोला-भाला वनवासी समाज उनकी शिकार बन गया है।

सामान्य रूप से एसी धारणा है कि नगरवासियों से वनवासी क्षेत्र के सेवाकार्य के लिये धन तथा संसाधन की पूर्तता यही नगरीय कार्य है। यद्यपि ‘नगरीय कार्य’ का यह कार्य अवश्य है, परन्तु इससे भी अधिक महत्वपूर्ण है नगरवासियों के ध्यान में यह लाना की वनवासी समाज इस राष्ट्रपुरूष का एक अंग है। वनवासी बन्धुओं ने आज भी अपनी संस्कृति का, अपने जीवनमूल्यों को सम्भाल के रखा है।

वनवासी आर्थिक रूप में अभावग्रस्त हो सकता है, किन्तु सांस्कृतिक जीवनमूल्यों की दृष्टी से सम्पन्न है। अतः नगरीय एवं वनवासी समाज के बीच आत्मीय सम्पर्क, सम्बन्ध स्थापित होने से जहाँ एक ओर अपने वनवासी बन्धुओं की भौतिक उन्नति का मार्ग प्रशस्त होगा वहीं दूसरी ओर नगरीय परिवारों में सांस्कृतिक जीवनमूल्यों की सम्भावनाएँ बढ़ सकती है। अतः वह आत्मीय सम्बन्ध स्थापित करने में कल्याण आश्रम सेतु का कार्य कर रहा है।

 

 वार्ता

‘संत ईश्वर सम्मान’ अर्थात निःस्वार्थ भावना से कार्यरत कार्यकर्ताओं का सम्मान

‘संत ईश्वर सम्मान’ अर्थात निःस्वार्थ भावना से कार्यरत कार्यकर्ताओं का सम्मान   25 नवम्बर 2018  हम सब दिल्लीवासियों के लिये विशेष दिन रहा। यहाँ संत ईश्वर फाउण्डेशन द्वारा कुछ महानुभावों...
Read More

पंजाब के 27 जिलों में जागरण अभियान

पंजाब के 27 जिलों में जागरण अभियान विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम, गोष्ठी एवं बैठकों के आयोजन द्वारा वनवासी कल्याण आश्रम के पंजाब प्रान्त के कार्यकर्ताओं ने जागरण का संकल्प किया...
Read More

जनजाति समाज की नगर यात्रा

जनजाति समाज की नगर यात्रा जनजाति कल्याण आश्रम द्वारा पोशीना (गुजरात) के कार्यकर्ताओं की कर्णावती (अहमदाबाद) में 4,5 अगस्त 2018 को नगर यात्रा का आयोजन किया गया जिसमें 38 ग्रामीण...
Read More

हमारी समर्पण वृत्ती एक सैनिक जैसी है – भगवान सहाय

हमारी समर्पण वृत्ती एक सैनिक जैसी है - भगवान सहाय भाग्यनगर में सम्पन्न हुआ नगरीय कार्य आयाम का अखिल भारतीय प्रशिक्षण वर्ग वनवासी कल्याण आश्रम के विभिन्न आयामों में एक है...
Read More

दूर दूर गांवो में जाए… वन बंधु को मिलने….

दूर दूर गांवो में जाए… वन बंधु को मिलने…. महाराष्ट्र में वनयात्रा का आयोजन चाणक्य मंडल परिवार यह अत्यंत प्रतिष्ठित अकादमी के लगभग 200 से अधिक छात्रों ने 13 से...
Read More

We Are Social