URBAN ACTIVITIES (नगरीय कार्य)

वनक्षेत्र में आज शिक्षा, चिकित्सा सुविधा, आर्थिक विकास की दिशा में हमें कमियाँ दिखाई पड़ रही है। अगर नगरों में रहनेवाला समाज 100 वर्ष पूर्व ही जागृत एवं सचेत होकर अपने वनवासी बन्धुओं के बारे में सक्रीय हुआ होता तो आज चित्र कुछ और होता। नगरीय समाज की उदासीनता, उपेक्षा एवं वनक्षेत्र तथा जनजाति समाज के बारे में अज्ञानता के कारण आज अराष्ट्रीय, असामाजिक एवं विघटनकारी शक्तियाँ वनक्षेत्र में अपनी जडे़ जमायें हुए है। भोला-भाला वनवासी समाज उनकी शिकार बन गया है।

सामान्य रूप से एसी धारणा है कि नगरवासियों से वनवासी क्षेत्र के सेवाकार्य के लिये धन तथा संसाधन की पूर्तता यही नगरीय कार्य है। यद्यपि ‘नगरीय कार्य’ का यह कार्य अवश्य है, परन्तु इससे भी अधिक महत्वपूर्ण है नगरवासियों के ध्यान में यह लाना की वनवासी समाज इस राष्ट्रपुरूष का एक अंग है। वनवासी बन्धुओं ने आज भी अपनी संस्कृति का, अपने जीवनमूल्यों को सम्भाल के रखा है।

वनवासी आर्थिक रूप में अभावग्रस्त हो सकता है, किन्तु सांस्कृतिक जीवनमूल्यों की दृष्टी से सम्पन्न है। अतः नगरीय एवं वनवासी समाज के बीच आत्मीय सम्पर्क, सम्बन्ध स्थापित होने से जहाँ एक ओर अपने वनवासी बन्धुओं की भौतिक उन्नति का मार्ग प्रशस्त होगा वहीं दूसरी ओर नगरीय परिवारों में सांस्कृतिक जीवनमूल्यों की सम्भावनाएँ बढ़ सकती है। अतः वह आत्मीय सम्बन्ध स्थापित करने में कल्याण आश्रम सेतु का कार्य कर रहा है।


previous arrow
next arrow
Slider

 वार्ता

Relief Work during Lockdown

Relief Work During Lockdown Service Project at a Glance (All India) Donate Now More News
Read More

डिमापुर में रानी गाईदिन्ल्यु बालक छात्रावास के नवीन भवन का लोकार्पण

डिमापुर में रानी गाईदिन्ल्यु बालक छात्रावास के नवीन भवन का लोकार्पण डिमापुर के सिंगल अंगामी में बस्ती में रानी गाईदिन्ल्यु बालक छात्रावास के नवीन भवन का लोकार्पण 2 फरवरी 2020...
Read More

नगरों से डाॅक्टर गाँवों की ओर …

नगरों से डाॅक्टर गाँवों की ओर ... महाराष्ट्र के विभिन्न महाविद्यालय के विद्यार्थी आरोग्य सेवा देने हेतु देश के जनजाति गाँवों में प्रतिवर्ष जाते है। यह पाँचवा वर्ष है। इस...
Read More

दूर खडे़ रहकर, दर्शक न बने सेवा के लिए आगे आए….

दूर खडे़ रहकर, दर्शक न बने सेवा के लिए आगे आए.... - डॉ. पंकज भाटिया वनवासी कल्याण आश्रम पूरे देश के 11 करोड़ जनजाति समाज के लोगों के बीच में...
Read More

एक अनोखा उपक्रम

एक अनोखा उपक्रम                     ‘वनवासी शहरवासी हम सब भारतवासी’ इस उक्ति अनुसार कल्याण आश्रम विविध प्रकार के प्रयत्नों से वनवासी समाज...
Read More
1 2 3 6